सोमवार, 26 दिसंबर 2011



 दंड-ए-ठंड

भीगी छत पर ओस की 
जो नमी दिख रही थी,  
उन्हें अब कबूतर चुग रहे हैं। 
कुछ देर पहले 
                                                                        जो धूप कोहरे ने ढकी थी,
                                                     अचानक वो 
                 धीरे-धीरे खिल उठी है
                   फिर भी ओस कणों की
         सफेदी झर रही है।
            आकाश की नीली दरी भी 
नहीं दिख रही है।
 वनस्पतियों पर चमकते 
ओसकण के मोती
 बता रहे हैं कि 
हम रात में 
कितना बरसे हैं।
       ठंड से हो रही हैं
जाने कितनी मौतें रोज          
खबर मिलती है तब 
जब मर जाते हैं ठंड से लोग।...क्रमशः
गौरव मिश्र,     मो. 09719515925

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लाग समर्पण

ब्लाग समर्पण
BRIJ KISHOR MISHRA