शुक्रवार, 23 सितंबर 2011

विधि रमणि !


सितवसन मितहसन मधुमितरसनवति
विधिरमणि तव न भव उपमितिमनुभवति१।
निगम -तिलकितवपुरुषशि तव दिवि लसति
यदुपनतदृशी विनतजगदधिचिति वसति
वटुवरटकुलमपि च वलदपचिति भवति
विधिरमणि तव न भव उपमितिमनुभवति ॥२॥
करकलित जपवलित मणिगुण उरु चलति
स हि सततमपि जगति शुभगतिमनुफलति
नवल मतिझरमिह तरलयति यतिमवति
विधिरमणि तव न भव उपमितिमनुभवति ॥३॥
तव ललितरव - तत कुकुभ परिमिलदुरसि
तरति सुतरतिनुलहरिरिव हिमसरसि
विबुधजनकृतसुकृतिरिहजनमभिभवति
विधिरमणि तव न भव उपमितिमनुभवति ॥४॥

त्रिपाठी भास्कराचार्य

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लाग समर्पण

ब्लाग समर्पण
BRIJ KISHOR MISHRA